कोई हाथ भी न मिलाएगा जो गले मिलोगे तपाक से

कोई हाथ भी न मिलाएगा जो गले मिलोगे तपाक से ये नए मिज़ाज का शहर है ज़रा फ़ासले से मिला करो Koi Hath Bhi Na Milayega Jo Gale Miloge Tapak Se Koi Hath Bhi Na Milayega Jo Gale Miloge Tapak Se Ye Naye Mijhajh Ka Shahar Hai Jara Fasale Se Mila Karo